मेट्रो लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मेट्रो लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 24 सितंबर 2012

सन्नाटे में है दिल्ली की एक रात


सन्नाटा
इस  शहर  के आधी रात का    
चुभ रहा है मुझे।
बगल की बिल्डिंग के मुंडेर पर बैठे
कबूतर ने अपने डैने खोलकर अगड़ाई ली।
कहीं दूर बारिस के बाद की आखिरी बूंद
‘टप्प’ से गिरी है।।
आज पास के हनुमान मंदिर के पास 
पीपल के पेड़ के दरम्यान 
गुजरती हवा भी सुनाई दी।।।
ठीक उसी तरह से जैसे
पंद्रह दिन पहले पड़ोस में पैदा हुए 
नवजात बच्चे के रोने की अवाज
सुनाई दी पहली बार।।
शायद उसे इस समय अपनी मां की जरूरत हो।
..........
कैसे बेसुध् सो रहा है यह  मेट्रो शहर ।
बहुत खल रहा है
मेट्रो जैसे  शहर का यह 
निशब्द सन्नाटा।
जहां आधी रात के बाद ही
पेज थ्री पार्टियां जवान होती है।
इस दौरान
बीपीओ'ज में युवा बना रहे होते है अपना भविष्य 
दीदी के कारण सरकार हिल चुकी है
इसीलिए दस जनपथ से लेकर रेसकोर्स तक
होना चाहिए था राजनितिक कोलाहल।।।
पर नहीं....
सब सन्नाटा है।
..........................
हाल में बने यमुना एक्सप्रेस वे पर कोई 
फरार्टा कार भी नहीं दौड़ रही है?
क्या कोई फेसबुक पर चैटिंग भी नहीं कर रहा होगा?
क्या हो गया है इस 24x7 वाले  शहर को।
उफ़ ...
इस  शहर के लायक नहीं है यह 
हांफता, मरता सन्नाटा।।।
...........................
हम्म... मम 
अच्छा है...
सुबह होने में अब कुछ देर ही बाकी है।