सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कई यादें छोड़ गया थियेटर ओलंपिक

जब मेला उठता है तो अपनी कई यादें छोड़ जाता है। देश में संपन्न हुए आठवें थियेटर ओलंपिक्स के विषय में भी यह कहा जा सकता है। यह मेला था नाटक कादेशी-विदेशी कलाओं कालोक कलाओं कानुक्कड़ नाटकों काविविध कलाओं पर चर्चा-परिचर्चा काकुछ सीखने का और कुछ सिखाने का। पूरे 51 दिन धूम मचाकर आठवें थियेटर ओलंपिक्स का समापन 8 अप्रैल को मुंबई में हो गया।दुनिया में रंगमंच के इस सबसे बड़े महोत्सव की पहली बार मेजबानी देश के संस्कृति मंत्रालय के तत्वावधान में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय ने सफलतापूर्वक की इस आयोजन का शुभांरभ 17 फरवरी को लालकिले पर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने केंद्रीय संस्कृति राज्य मंत्री डॉमहेश शर्मा के साथ किया था। 






क्या है थियेटर ओलंपिक्स

डेल्फीग्रीस में प्रसिद्ध ग्रीस थियेटर डॉयरेक्टर थियोडोरोस टेरज़ोपोलोस की अगुवाई में 1993 में थिएटर ओलंपिक की स्थापना की गई। यह एक गैरसरकारी संस्था है। थियेटर ओलंपिक एक अंतरराष्ट्रीय उत्सव हैजो दुनिया भर के जानेमाने थियेटर जानकारों के कामों को सबके सामने लाता है। एक तरह से यह थियेटर की विरासत को सामने लाने की पहल करने के उद्देश्य से संचालित है। थियेटर ओलंपिक की एक कमेटी हैजिसके इस समय चौदह सदस्य हैंजो अपने-अपने देश के जानेमाने थियेटर जानकार हैं। इस समय हमारे देश से एनएसडी के चेयरपर्सन रतन थियम इसके सदस्य हैं। थियेटर की स्थापना के समय आठ देशों के प्रतिनिधि सम्मिलित थेजिन्होंने आपसी समझ से इसे नॉन-प्रॉफिट आर्गनाइजेशन बनाया। इसका हेडक्वार्टर एथेंस में है। हर साल एक बार इसकी मीटिंग होती है। ओलंपिक थियेटर हमेशा अलग-अलग देशों में आयोजित किए जाते हैं। 1995 में थियेटर ओलंपिक की मेजबानी करने वाला पहला देश ग्रीस था। जापान ने 1999 में शिजुओका में दूसरे संस्करण की मेजबानी की थी। उसके बाद 2001 में रूस ने आयोजित किया। 2006 में ओलंपिक का आयोजन तुर्की के इस्ताम्बुल में हुआ और चार साल बाद 2010 में सोलदक्षिण कोरिया में हुआ। 2014 में चीन ने इसे बीजिंग में आयोजित किया और 2016 में व्रोकलापोलैंड में सातवां थियेटर ओलंपिक आयोजित किए गए। भारत इस वैश्विक आयोजन के आठवें संस्करण की मेजबानी कर इस शानदार सूची में शामिल होने के लिए पूरी तरह से तैयार है।






विदेशी कला-संस्कृति की छटा

इस दौरान ऑस्ट्रेलिया, अजेरबैजान, बांग्लादेश, बेल्जियम, ब्राजील, चीन, चेक गणराज्य, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, ग्रीस, इज़राइल, इटली, जापान, लिथुआनिया, मॉरीशस, नेपाल, पोलैंड, रूस, श्रीलंका, दक्षिण कोरिया, स्पेन, तुर्की, यूनाइटेड किंगडम और अमेरिका समेत 30 देशों के प्रतिभागी रंगमंच में अपनी श्रेष्ठता का प्रदर्शन किया गया। इस भव्य महोत्सव में आमंत्रित अतिथियों में थियोडोरोस टेरज़ोपोलोस (चेयरमैन, थियेटर ओलंपिक अंतरराष्ट्रीय समिति, ग्रीस), लियु लिबिन (चीन), जैरोस्ला फ्रेट (पोलैंड), सहिका टेकंद (तुर्की), यूजिनो बार्बा (डेनमार्क), रोमियो कास्टेलुच्ची (इटली), पिपो डेलबोनो (इटली) और जैन फैबर (बेल्जियम) शामिल हुए और कला प्रेमियों से मुखातिब हुए।






टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तनुश्री से सवाल पूछने से पहले

नो एक शब्द ही नहीं, अपने आप में पूरा वाक्य है योरऑनर। इसे किसी तर्क, स्पष्टीकरण या व्याख्या की जरूरत नहीं है। ‘न’ का मतलब ‘न’ ही होता है योरऑनर। ’
‘न मैं नाना पाटेकर हूं और न तनुश्री, तो मैं आपके सवाल का जवाब कैसे दे सकता हूं।’

ऊपर लिखी यह दोनों लाइनें फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन ने बोली हैं। पहली लाइन फिल्म ‘पिंक’ में एक बलात्कार की शिकार लड़की का केस लड़ते हुए और दूसरी लाइन अभिनेत्री तनुश्री और नाना पाटेकर विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कही। मामला एक ही तरह का है, पर रील और रियल लाइफ का अंतर है। वास्तव में रील और रियल लाइफ में यही फर्क होता है। अगर तनुश्री और नाना पाटेकर विवाद रियल लाइफ में न होकर सिनेमा के लिए फिल्माया गया एक दृश्य जैसा होता तो? तो सदी के महानायक पुरजोर वकालत करके यह केस जीत लेते और फिल्म ‘हिट’ हो जाती। चूंकि मामला फिल्म का नहीं है, इसलिए वे बड़े ही ‘बेशर्म’ तरीके से इस सवाल से बच निकलते हैं। खैर, सदी के महानायक की छोड़िए, दरियादिल सलमान खान की बात कर लें। जब एक प्रेस कांफ्रेंस में महिला पत्रकार ने इस विवाद पर सलमान की प्रतिक्रिया जाननी चाही, तब ‘आप किस इवेंट में आई …

#मीटू : आखिरकार गुबार फूट ही पड़ा

तनुश्री और नाना के विवाद ने बहुत सी महिलाओं को यह हिम्मत दी कि यही सबसे ठीक समय है, जब वे अपनी घुटन से छुटकारा पा सकती हैं। तनुश्री से हिम्मत लेकर लेखिका और निर्देशिका विंता नंदा ने जब अभिनेता और संस्कारी बाबूजी के नाम से लोकप्रिय आलोकनाथ के बारे में विस्तार से लिखा, तो लोगों का आश्चर्यचकित हो जाना लाजिमी था। बीस साल पहले हुए विंता के यौन उत्पीड़न के बाद जिस तरह से एक के बाद एक मामले सामने आए, उससे आलोक नाथ की एक दूसरी छवि ही लोगों ने देख ली। इसी तरह तनुश्री के माध्यम से समाजसेवी नाना पाटेकर एक दूसरा स्वरूप लोगों के सामने आया। तनुश्री के समर्थन में कंगना ने जब विकास बहल पर अपनी बात रखी, तब ‘क्वीन’ जैसी वुमेन ओरिएंटेड फिल्म बनाने वाले व्यक्ति का एक और ही चेहरा सामने आया। इसी क्रम में पत्रकारिता के क्षेत्र से एक प्रमुख नाम एम.जे. अकबर का आया है। अब तक उन पर 15 महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। टेलीग्राफ, एशियन ऐज और इंडिया टुडे के शीर्ष पदों पर रहने के बाद आज वे केंद्र सरकार में विदेश राजमंत्री भी हैं।

गौर करने वाली बात है कि जिन पर भी आरोप लग रहे हैं, वे सब अपने-अपने क्…

शादी की उम्र को लेकर अंतर क्यों?

यह कैसा विरोधाभास है कि 18 साल की उम्र में सरकार चुन सकते हैं पर जीवनसाथी नहीं। इस मामले में शायद महिलाएं भाग्यशाली हैं कि वे 18 साल होने के बाद अपने लिए जीवनसाथी चुन सकती हैं, पर पुरुष नहीं। उन्हें महिला की तुलना में तीन साल और इंतजार करना पड़ता है। यही हमारे देश का कानून है- विभिन्न कानूनों के तहत शादी की न्यूनतम आयु महिलाओं के लिए 18 साल और पुरुषों के लिए 21 साल। शादी के लिए पुरुष और महिला की आयु का अंतर क्यों रखा जाता है? इस अंतर का क्या वैज्ञानिक या सामाजिक आधार है? क्या यह इस विचार को पोषित करता है कि पत्नी पति से उम्र में छोटी होनी चाहिए? इन प्रश्नों का कोई माकूल और तर्कशील उत्तर हमारे पास नहीं है। शायद इसीलिए विधि आयोग ने सुझाव दे दिया कि क्यों न पुरुषों की शादी की न्यूनतम आयु महिला के सामान 18 कर दी जाए।

बलवीर सिंह चौहान की अध्यक्षता वाली विधि आयोग ने हाल ही में ‘परिवार कानून में सुधार’ पर अपने परामर्श पत्र में पुरुषों की शादी की न्यूनतम उम्र महिला के बराबर 18 वर्ष करने का सुझाव दिया है। वैसे विधि आयोग इस सुझाव को उलट ढंग से भी कह सकता था। यानी महिला की शादी की न्यूनतम आयु पुर…