सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

इस बार मॉरीशस में होगा जुटान

यूं तो 2015 में दसवें विश्व हिन्दी सम्मेलन, भोपाल में ही निश्चित हो गया था कि ग्यारहवां विश्व हिन्दी सम्मेलन मॉरीशस में 18 से 20 अगस्त तक आयोजित किया जाएगा। अब इसकी आधिकारिक घोषणा पिछले दिनों कर दी गई। इस सम्मेलन के विषय में जानकारी देने के लिए मॉरीशस से एक विशेष प्रतिनिधि दल भारत आया। मॉरीशस की शिक्षा, मानव संसाधन मंत्री लीला देवी दुकन लछुमन और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस सम्मेलन का लोगो और वेवसाइट जारी करते हुए इस संबंध में जानकारी दी। इस अवसर पर सुषमा स्वराज ने कहा कि भाषा और संस्कृति साथ-साथ चलते हैं। एक के खत्म होने पर दूसरा अपने आप ही विलीन हो जाता है। ऐसे में भारत के बाहर भी हिन्दी को जीवित रखने में इस सम्मेलन की बड़ी भूमिका है। साथ ही लीला देवी ने हिन्दी भाषा की दशा पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि आज हिन्दी की हालत पानी में जूझते जहाज की तरह हो गई है।
मॉरीशस में यह तीसरा सम्मेलन होगा। इस का आयोजन स्वामी विवेकानंद अंतर्राष्ट्रीय संस्थान में होगा। इस सम्मेलन का विषय वैश्विक हिन्दी और भारतीय संस्कृति है। इससे पहले यहां पर 1976 और 1993 में विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन हो चुका है। इस बार खासतौर पर गंगा आरती का एक कार्यक्रम रखा गया है। गंगा नदी भारतीय संस्कृति का प्रतीक है, इसलिए इस सम्मेलन गंगा आरती का रखा जाना अच्छा संदेश है। ग्यारहवें विश्व हिन्दी सम्मेलन के दौरान एक विषय भोपाल से मारीशसरखा गया है, जहां भोपाल में आयोजित दसवें विश्व हिन्दी दिवस के दौरान गठित समितियां यहां अपने एक साल के कामकाज का लेखाजोखा प्रस्तुत करेंगी सम्मेलन स्थल पर हिन्दी भाषा के विकास से संबंधित कई प्रदर्शनियां लगाई जाएंगी। सम्मेलन के दौरान शाम को भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद, नई दिल्ली द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम और कवि सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। विश्व हिन्दी सचिवालय, मॉरीशस की सम्मेलन सामग्रियों को तैयार करने और प्रकाशन में महत्वपूर्ण भूमिका होगी। भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद द्वारा गगनांचल का विशेष अंक निकाला जाएगा, जो सम्मेलन को समर्पित होगा। जैसा कि हर साल होता है, इस वर्ष भी भारत एवं अन्य देशों के हिन्दी सेवियों को उनके विशेष योगदान के लिए "विश्व हिन्दी सम्मानसे सम्मानित किया जाएगा।
विश्व हिन्दी सम्मेलन हिन्दी भाषा का सबसे बड़ा अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन है, इसमें विश्व भर से हिन्दी के विद्वान, साहित्यकार, पत्रकार, भाषा विज्ञानी, विषय विशेषज्ञ तथा हिन्दी प्रेमी जुटते हैं। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत की राष्ट्रभाषा के प्रति जागरूकता पैदा करने, समय-समय पर हिन्दी की विकास यात्रा का आकलन करने, लेखक व पाठक दोनों के स्तर पर हिन्दी साहित्य के प्रति सरोकारों को और दृढ़ करने, जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में हिन्दी के प्रयोग को प्रोत्साहन देने तथा हिन्दी के प्रति प्रवासी भारतीयों के भावुकतापूर्ण व महत्वपूर्ण रिश्ते को गहराई से मान्यता प्रदान करना ही इन सम्मेलनों का मुख्य उद्देश्य रहा है। 1975 से अब तक दस विश्व हिंदी सम्मेलन संपंन हो चुके हैं। ये सभी सम्मेलन माॅरीशस, भारत, त्रिनिडाड व टोबेगो, लंदन और सूरीनाम जैसे विश्व के विभिन्न देशो में संपंन हुएहै। 2007 में आठवां विश्व हिन्दी सम्मेलन न्यूयार्क में हुआ तथा नौवां विश्व हिन्दी सम्मेलन सितंबर 2012 में दक्षिण अफ्रीका में हुआ और  दसवां सम्मेलन, भोपाल यानी भारत में हो चुका है।
हिन्दी को राष्ट्रभाषा का दर्जा दिलाने के लिए 1936 में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा की स्थापना एक स्वयं संचालित संस्था के रूप में की थी। तब इसके संस्थापकों में डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, राजर्षि पुरुषोत्तमदास टंडन, पं जवाहरलाल नेहरू, सुभाषचन्द्र बोस, आचार्य नरेन्द्र देव, आचार्य काका कालेलकर, सेठ जमनालाल बजाज आदि गणमान्य एवं स्वतंत्रता प्रेमी थे। जिन्होने हिन्दी को एक राष्ट्रभाषा के रूप में स्थापित किया। इसी संगठन ने 1975 में प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी की पहल पर विश्व हिन्दी सम्मेलनों की एक श्रृंखला की परिकल्पना की। इस तरह नागपुर में पहला विश्व हिन्दी सम्मेलन संपंन हुआ। सम्मेलन में 30 देशों के 122 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। इस सम्मेलन में यह प्रस्ताव पारित किया गया कि हिन्दी को संयुक्त राष्ट्र संघ में आधिकारिक भाषा के रूप में स्थान दिलाया जाएगा। हिन्दी को संयुक्त राष्ट्र संघ में आधिकारिक भाषा का स्थान दिलाया जा, के लिए अभी भी प्रयास किया जा रहा है। 

टिप्पणियाँ

HARSHVARDHAN ने कहा…
आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन जन्म दिवस - शरद जोशी और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तनुश्री से सवाल पूछने से पहले

नो एक शब्द ही नहीं, अपने आप में पूरा वाक्य है योरऑनर। इसे किसी तर्क, स्पष्टीकरण या व्याख्या की जरूरत नहीं है। ‘न’ का मतलब ‘न’ ही होता है योरऑनर। ’
‘न मैं नाना पाटेकर हूं और न तनुश्री, तो मैं आपके सवाल का जवाब कैसे दे सकता हूं।’

ऊपर लिखी यह दोनों लाइनें फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन ने बोली हैं। पहली लाइन फिल्म ‘पिंक’ में एक बलात्कार की शिकार लड़की का केस लड़ते हुए और दूसरी लाइन अभिनेत्री तनुश्री और नाना पाटेकर विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कही। मामला एक ही तरह का है, पर रील और रियल लाइफ का अंतर है। वास्तव में रील और रियल लाइफ में यही फर्क होता है। अगर तनुश्री और नाना पाटेकर विवाद रियल लाइफ में न होकर सिनेमा के लिए फिल्माया गया एक दृश्य जैसा होता तो? तो सदी के महानायक पुरजोर वकालत करके यह केस जीत लेते और फिल्म ‘हिट’ हो जाती। चूंकि मामला फिल्म का नहीं है, इसलिए वे बड़े ही ‘बेशर्म’ तरीके से इस सवाल से बच निकलते हैं। खैर, सदी के महानायक की छोड़िए, दरियादिल सलमान खान की बात कर लें। जब एक प्रेस कांफ्रेंस में महिला पत्रकार ने इस विवाद पर सलमान की प्रतिक्रिया जाननी चाही, तब ‘आप किस इवेंट में आई …

#मीटू : आखिरकार गुबार फूट ही पड़ा

तनुश्री और नाना के विवाद ने बहुत सी महिलाओं को यह हिम्मत दी कि यही सबसे ठीक समय है, जब वे अपनी घुटन से छुटकारा पा सकती हैं। तनुश्री से हिम्मत लेकर लेखिका और निर्देशिका विंता नंदा ने जब अभिनेता और संस्कारी बाबूजी के नाम से लोकप्रिय आलोकनाथ के बारे में विस्तार से लिखा, तो लोगों का आश्चर्यचकित हो जाना लाजिमी था। बीस साल पहले हुए विंता के यौन उत्पीड़न के बाद जिस तरह से एक के बाद एक मामले सामने आए, उससे आलोक नाथ की एक दूसरी छवि ही लोगों ने देख ली। इसी तरह तनुश्री के माध्यम से समाजसेवी नाना पाटेकर एक दूसरा स्वरूप लोगों के सामने आया। तनुश्री के समर्थन में कंगना ने जब विकास बहल पर अपनी बात रखी, तब ‘क्वीन’ जैसी वुमेन ओरिएंटेड फिल्म बनाने वाले व्यक्ति का एक और ही चेहरा सामने आया। इसी क्रम में पत्रकारिता के क्षेत्र से एक प्रमुख नाम एम.जे. अकबर का आया है। अब तक उन पर 15 महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। टेलीग्राफ, एशियन ऐज और इंडिया टुडे के शीर्ष पदों पर रहने के बाद आज वे केंद्र सरकार में विदेश राजमंत्री भी हैं।

गौर करने वाली बात है कि जिन पर भी आरोप लग रहे हैं, वे सब अपने-अपने क्…

शादी की उम्र को लेकर अंतर क्यों?

यह कैसा विरोधाभास है कि 18 साल की उम्र में सरकार चुन सकते हैं पर जीवनसाथी नहीं। इस मामले में शायद महिलाएं भाग्यशाली हैं कि वे 18 साल होने के बाद अपने लिए जीवनसाथी चुन सकती हैं, पर पुरुष नहीं। उन्हें महिला की तुलना में तीन साल और इंतजार करना पड़ता है। यही हमारे देश का कानून है- विभिन्न कानूनों के तहत शादी की न्यूनतम आयु महिलाओं के लिए 18 साल और पुरुषों के लिए 21 साल। शादी के लिए पुरुष और महिला की आयु का अंतर क्यों रखा जाता है? इस अंतर का क्या वैज्ञानिक या सामाजिक आधार है? क्या यह इस विचार को पोषित करता है कि पत्नी पति से उम्र में छोटी होनी चाहिए? इन प्रश्नों का कोई माकूल और तर्कशील उत्तर हमारे पास नहीं है। शायद इसीलिए विधि आयोग ने सुझाव दे दिया कि क्यों न पुरुषों की शादी की न्यूनतम आयु महिला के सामान 18 कर दी जाए।

बलवीर सिंह चौहान की अध्यक्षता वाली विधि आयोग ने हाल ही में ‘परिवार कानून में सुधार’ पर अपने परामर्श पत्र में पुरुषों की शादी की न्यूनतम उम्र महिला के बराबर 18 वर्ष करने का सुझाव दिया है। वैसे विधि आयोग इस सुझाव को उलट ढंग से भी कह सकता था। यानी महिला की शादी की न्यूनतम आयु पुर…