सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बेटियों का समुद्र मंथन


समुद्र से यदि टकराना है, तो तुम यह भूल जाओं कि तुम कौन हो। समुद्र यह नहीं देखता कि तुम महिला हो या पुरुष।अपने प्रशिक्षक दिलीप डोंडे की इस बात को मूलमंत्र बनाकर समुद्र की अथाह गहराइयों में जब महिला नेवी की जांबाज अधिकारी उतरी होंगी, तो उनके मन में इस महत्वपूर्ण यात्रा को लेकर ज्यादा संशय नहीं रहा होगा। यह इसलिए कहा जा सकता है कि साहसपूर्वक आठ महीने से अधिक समय बिताकर सभी तरह के खतरों को पार करने के बाद जब यह महिला दल 21 मई को देश की धरती पर लौटा तो देश ने इनके साहस को सलाम किया। खुद रक्षामंत्री निर्मला सीतारमन ने उनका स्वागत किया। इस यात्रा को नाविका सागर परिक्रमा नाम दिया गया। (ये दिलीप डोंडे वही साहसी व्यक्ति हैं, जिन्होंने पहली बार 2009 2010 के दौरान अकेले पूरी दुनिया का चक्कर लगाया था।)
10 सितंबर 2017 को गोवा से इंडियन नेवी की छह महिला अधिकारी तारिणी नाव पर पहली बार दुनिया का चक्कर लगाने के लिए निकलीं। इस यात्रा में वर्तिका जोशी कमांडर थीं, इनके साथ प्रतिभा जम्बाल, स्वाति पी., ऐश्वर्या वोदपति, विजया देवी और पायल गुप्ता थीं। यह पहली बार था जब एक ऑल वुमन क्रू दुनिया की परिक्रमा करने निकला था। ये लोग कुल साढे आठ महीने अपने परिवार और देश से दूर रहीं। यदि दिनों में गिना जाए, तो 254 दिन ये जांबाज महिलाएं अपने नाव में रहीं। 22,000 नौटिकल माइल्स की इस यात्रा में उन्होंने आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, फॉकलैंड, . अफ्रीका और मारिशस जैसे देशों में गईं। इनकी यात्रा का रूट गोवा से शुरू होकर आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड से प्रशांत महासागर पार करके अमेरिका के दक्षिण में फाकलैंड द्वीव से अफ्रीका के केपटाउन से होते हुए मेडागास्कर से हिन्द महासागर से मारिशस पहुंचीं और यहीं से वे पुन: देश के पश्चिमी तट गोवा पहुंचीं। इस यात्रा में इन्होंने भूमध्य रेखा को दो बार क्रास किया और सभी देशांतर रेखाओं को भी इन्होंने छुआ। इसके अतिरिक्त तीन ग्रेट केप यानी केप ल्यूबिन, केप हार्न और केप ऑफ गुड होप भी कवर किए। यह बहुत ही ऐतिहासिक रहा।

इस यात्रा को साहसी और ऐतिहासिक इसलिए कहा जा सकता है कि इन्होंने अपनी यात्रा एक नाव पर की, किसी जहाज से नहीं, जो कि कहीं अधिक सुरक्षित होता है। इसी नाव पर उन्होंने सात से दस मीटर ऊंची लहरों का सामना किया। इन लहरों में इस तरह की नाव के डूबने का कहीं अधिक खतरा होता है। वे लोग इस यात्रा में कई ऐसी जगहों में गईं, जहां का तापमान माइनस दस तक चला जाता था। इस अवस्था में नाव का व्हील सम्हालने में हाथ जम जाते थे। यहां 140 किमी. की रफ्तार से हवाएं चलती थीं। केप ऑफ हार्न में वे तीन दिनों तक तूफान में फंसी रहीं। इस समय यहां का मौसम बहुत ही ठंडा था। नाव के सारे काम वे खुद ही करती थीं और इसी दौरान नाव पर कंट्रोल भी करना होता था।
सवाल है कि इस यात्रा का क्या उद्देश्य रहा है, ऐसी यात्रा की जरूरत क्यों पड़ी? तो सबसे पहले जो एक चीज दिखती है वह है महिला सशक्तिकरण। एक नाव पर छह महिलाएं लहरों से लड़ती हुई दुनिया का चक्कर लगा कर सकुशल बहुत सी जानकारियां लेकर लौटती हैं। दूसरा अपनी यात्रा के दौरान जहां-जहां से वे गुजरी पर्यावरण जागरुकता फैलाती गईं। इस नाव में भी सस्टनेबल फ्यूल का प्रयोग किया गया था। यह नाव यानी तारिनी पूरी तरह से भारत में बनी हुई है, तो इतनी दुसाहसी यात्रा में मेक इन इंडिया की बात से ये दुनिया अवगत हो गई। उन्होंने इस यात्रा के दौरान मौसम संबंधी डेटा एकत्र किया। साथ ही वेब डेटा यानी समुद्री लहरों संबंधी आंकड़े भी एकत्र किए, जो आगे बहुत ही महत्वपूर्ण साबित होंगे। आज समुद्र काफी प्रदूषित होता जा रहा है, इसके बारे में जागरुकता फैलाने के साथ इससे संबंधित आंकड़े भी एकत्र किए।
इस यात्रा के दौरान उन्होंने कई पड़ाव लिए गए। जहां भी ये लोग रुकीं वहां पर भारत के मूल निवासी इनसे मिलने के लिए गए। इससे केवल इन लोगों को उत्साहवर्द्धन हुआ, बल्कि देश से इन लोगों को जोड़ने का काम भी इन्होंने बखूब कर दिया।

टिप्पणियाँ

http://bulletinofblog.blogspot.in/2018/05/blog-post_29.html
धन्यवाद रश्मि जी

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तनुश्री से सवाल पूछने से पहले

नो एक शब्द ही नहीं, अपने आप में पूरा वाक्य है योरऑनर। इसे किसी तर्क, स्पष्टीकरण या व्याख्या की जरूरत नहीं है। ‘न’ का मतलब ‘न’ ही होता है योरऑनर। ’
‘न मैं नाना पाटेकर हूं और न तनुश्री, तो मैं आपके सवाल का जवाब कैसे दे सकता हूं।’

ऊपर लिखी यह दोनों लाइनें फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन ने बोली हैं। पहली लाइन फिल्म ‘पिंक’ में एक बलात्कार की शिकार लड़की का केस लड़ते हुए और दूसरी लाइन अभिनेत्री तनुश्री और नाना पाटेकर विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कही। मामला एक ही तरह का है, पर रील और रियल लाइफ का अंतर है। वास्तव में रील और रियल लाइफ में यही फर्क होता है। अगर तनुश्री और नाना पाटेकर विवाद रियल लाइफ में न होकर सिनेमा के लिए फिल्माया गया एक दृश्य जैसा होता तो? तो सदी के महानायक पुरजोर वकालत करके यह केस जीत लेते और फिल्म ‘हिट’ हो जाती। चूंकि मामला फिल्म का नहीं है, इसलिए वे बड़े ही ‘बेशर्म’ तरीके से इस सवाल से बच निकलते हैं। खैर, सदी के महानायक की छोड़िए, दरियादिल सलमान खान की बात कर लें। जब एक प्रेस कांफ्रेंस में महिला पत्रकार ने इस विवाद पर सलमान की प्रतिक्रिया जाननी चाही, तब ‘आप किस इवेंट में आई …

#मीटू : आखिरकार गुबार फूट ही पड़ा

तनुश्री और नाना के विवाद ने बहुत सी महिलाओं को यह हिम्मत दी कि यही सबसे ठीक समय है, जब वे अपनी घुटन से छुटकारा पा सकती हैं। तनुश्री से हिम्मत लेकर लेखिका और निर्देशिका विंता नंदा ने जब अभिनेता और संस्कारी बाबूजी के नाम से लोकप्रिय आलोकनाथ के बारे में विस्तार से लिखा, तो लोगों का आश्चर्यचकित हो जाना लाजिमी था। बीस साल पहले हुए विंता के यौन उत्पीड़न के बाद जिस तरह से एक के बाद एक मामले सामने आए, उससे आलोक नाथ की एक दूसरी छवि ही लोगों ने देख ली। इसी तरह तनुश्री के माध्यम से समाजसेवी नाना पाटेकर एक दूसरा स्वरूप लोगों के सामने आया। तनुश्री के समर्थन में कंगना ने जब विकास बहल पर अपनी बात रखी, तब ‘क्वीन’ जैसी वुमेन ओरिएंटेड फिल्म बनाने वाले व्यक्ति का एक और ही चेहरा सामने आया। इसी क्रम में पत्रकारिता के क्षेत्र से एक प्रमुख नाम एम.जे. अकबर का आया है। अब तक उन पर 15 महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। टेलीग्राफ, एशियन ऐज और इंडिया टुडे के शीर्ष पदों पर रहने के बाद आज वे केंद्र सरकार में विदेश राजमंत्री भी हैं।

गौर करने वाली बात है कि जिन पर भी आरोप लग रहे हैं, वे सब अपने-अपने क्…

शादी की उम्र को लेकर अंतर क्यों?

यह कैसा विरोधाभास है कि 18 साल की उम्र में सरकार चुन सकते हैं पर जीवनसाथी नहीं। इस मामले में शायद महिलाएं भाग्यशाली हैं कि वे 18 साल होने के बाद अपने लिए जीवनसाथी चुन सकती हैं, पर पुरुष नहीं। उन्हें महिला की तुलना में तीन साल और इंतजार करना पड़ता है। यही हमारे देश का कानून है- विभिन्न कानूनों के तहत शादी की न्यूनतम आयु महिलाओं के लिए 18 साल और पुरुषों के लिए 21 साल। शादी के लिए पुरुष और महिला की आयु का अंतर क्यों रखा जाता है? इस अंतर का क्या वैज्ञानिक या सामाजिक आधार है? क्या यह इस विचार को पोषित करता है कि पत्नी पति से उम्र में छोटी होनी चाहिए? इन प्रश्नों का कोई माकूल और तर्कशील उत्तर हमारे पास नहीं है। शायद इसीलिए विधि आयोग ने सुझाव दे दिया कि क्यों न पुरुषों की शादी की न्यूनतम आयु महिला के सामान 18 कर दी जाए।

बलवीर सिंह चौहान की अध्यक्षता वाली विधि आयोग ने हाल ही में ‘परिवार कानून में सुधार’ पर अपने परामर्श पत्र में पुरुषों की शादी की न्यूनतम उम्र महिला के बराबर 18 वर्ष करने का सुझाव दिया है। वैसे विधि आयोग इस सुझाव को उलट ढंग से भी कह सकता था। यानी महिला की शादी की न्यूनतम आयु पुर…