सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ये लड़कियों, सुनो तो जरा

इन दिनों फिल्म अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा का एक वीडियो काफी चर्चित हो गया। इस वीडियो में प्रियंका बगैर किसी मेकअप के कैमरे को फेस कर रही हैं। इस दो मिनट, 18 सेकेंड के वीडियों में प्रियंका लड़कियों और महिलाओं से खुद पर संदेह करने को लेकर सवाल करती नजर रही हैं। वे इस बात पर सवाल खड़ा कर रही है कि महिलाएं अपने बाहरी एपीरेंस के प्रति संदेह के स्तर तक सजग क्यों रहती हैं? वे कैसी दिख रही हैं, उन्हें कैसा दिखना चाहिए, और इसके लिए क्या करना और क्या नहीं करना चाहिए, जैसे सवालों में ही उलझी रहती हैं। जबकि इसके विपरीत पुरुषों को इन सभी सवालों से बहुत लेना-देना नहीं होता है। महिलाओं को प्राकृतिक रूप से मिली अपनी शरीरिक रूप-रेखा पर विश्वास होने के कारण वे मेकअप, सौंदर्य उपचार, जीरो फिगर के लिए एक हद से आगे गुजर जाती हैं। वे अपनी बाहरी रूप-रेखा के प्रति इतनी चिंतित होती हैं कि अपनी सेल्फी भी फिल्टर या फोटोशाप करके शेयर करने में विश्वास करती हैं। प्रियंका इसका कारण युगों से चली रही महिलाओं की कंडीसनिंग को मानती हैं। इस सामाजिक कंडीसनिंग ने वर्षों से यही सिखाया है कि एक महिला होने के नाते हमें कैसे रहना है, कैसे दिखना है। और सौंदर्य के विभिन्न मापदंडों पर कैसे खरा उतरना है। हमें ऐसा क्यों करना पड़ता है क्योंकि हम दोयम दर्जे के नागरिक हैं। तो जब आप को एक-दो घंटे में बाथरूम जाकर खुद के लुक को चेक करने की जरूरत महसूस हो, तो इस बारे में ठहर कर जरूर सोचें। आप जैसे भी हैं, खुद से प्यार करना सीखें।
खुद पर संदेह करना, कमजोर आत्मविश्वास को दिखाता है। लड़कियों और स्त्रियों के मामलों अगर यह दिखता है, तो इसे सिमोन बाउवार के इस कथन से समझा जा सकता है कि स्त्री पैदा नहीं होती, बल्कि बना दी जाती है। पिछले साल सोशल मीडिया पर सेल्फी विदआउट मेकअप नाम से अभियान चलाया गया। यह अभियान ईश्वर प्रदत या प्राकृतिक सौंदर्य को मान्यता देने के लिए था। इस अभियान में महिलाओं ने बगैर किसी मेकअप के अपनी तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर कीं। इस पूरे अभियान में यह दिखा कि हमें ईश्वर की तरफ से दिए गए उपहार रूपी रूप-सौंदर्य पर शक क्योंकर होना चाहिए। विभिन्न तरह के मेकअप से सौंदर्य मापदंडों की पूर्ति के लिए क्यों पागलपन की हद तक पागल रहना? क्या इस अभियान के बाद मेकअप करना बंद हो गया या मेकअप कंपनियां बंद हो गईं? यह सोचना एक मजाक से ज्यादा कुछ नहीं होगा। वर्षों की कंडीसनिंग ऐसे नहीं जाती।
सौंदर्य के प्रति सजगता के पागलपन को बहुत कुछ ग्लैमर जगत बढ़ाते नजर आते हैं या इसे दूसरे ढंग से कहें तो लोग सौंदर्य के लिए पागल हैं, इसलिए ये जगत उसे केवल भुना रहा होता है। टीवी, अखबार, सोशल मीडिया पर आने वाले सौंदर्य प्रसाधनों के विज्ञापनों पर एक नजर रखने से ही पता चल जाता है कि यह कितने हास्यास्पद हैं। ये विज्ञापन किसी भी सौंदर्य मापदण्ड के होने पर हमारे मन में घृणा के स्तर तक घृणा भर देते हैं। चाहे वे किशोरावस्था में चेहरे पर आएं मुहासे हों, शरीर से निकलने वाला पसीना, या फिर त्वचा का कालापन, या फिर एक समय के बाद सफेद हुए बाल या चेहरे की झुर्रियां। ये सौंदर्य प्रसाधनों के विज्ञापन इन शारीरिक अवश्याम्भी परिवर्तनों को भी भुना ले जाते हैं। अगर ऐसा होता, तो योग से सभी समस्याओं का हल बताने वाले बाबा रामदेव सौंदर्य प्रसाधनों की एक लंबी रेंज लांच करते। यूं ही नहीं ग्लोबल कॉस्मेटिक्स मार्केट 2009 के भयंकर मंदी के बाद निरंतर बढ़ ही रहा है। 2017 में एसोचैम और रिसर्च एजेंसी एमआरएसएस ने एक अध्ययन के बाद बताया कि देश में कॉस्मेटिक और ग्रूमिंग मार्केट का साइज बढ़कर 2035 तक 35 बिलियन डॉलर हो जाएगा। यह इसलिए क्योंकि किशोरावस्था में ही बच्चे अपने लुक्स के प्रति सजग हो रहे हैं। यह सर्वे यह भी कहता है कि 68 फीसदी युवा इस बात में विश्वास करते हैं कि इन चीजों के प्रयोग से उनका आत्मविश्वास बढ़ जाता है।  बाजार विशेषज्ञों की माने तो इसमें यह वार्षिक वृद्धि 25 प्रतिशत की दर से बढ़कर 2025 में 20 बिलियन डॉलर तक पहुंच सकता है। यह वृद्धि यूं ही नहीं है।
कुछ दिन पहले वास्तविक सौंदर्य के संदर्भ में अभिनेत्री सोनम कपूर ने विस्तार से बात की थी। सोशल मीडिया में वायरल इस वीडियो में अभिनेत्री एक ग्लैमरस सोनम कपूर के बनने की प्रक्रिया को दिखाती हैं। एक अभिनेत्री या मॉडल इतनी ग्लैमरस कैसे दिखती हैं, इसमें कितना बनावटीपन होता है, यह समझाने की भरपूर कोशिश सोनम ने की थी। जब ग्लैमर जगत नकली सौंदर्य या मापदंडों को नकारता है, तो यह आमजन में एक समझ पैदा होने की संभावना बढ़ जाती है। इस मामले में ग्लैमरस जगत की प्रियंका जैसी सीनियर अभिनेत्री की ऐसी बातें ज्यादा प्रभाव पैदा करने वाली हो सकती हैं। इस मामले में और भी ग्लैमरस पर्सनालिटी के इस तरह के वक्तव्य की दरकार हो सकती है।  

टिप्पणियाँ

HARSHVARDHAN ने कहा…
आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन गोविन्द चन्द्र पाण्डे और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तनुश्री से सवाल पूछने से पहले

नो एक शब्द ही नहीं, अपने आप में पूरा वाक्य है योरऑनर। इसे किसी तर्क, स्पष्टीकरण या व्याख्या की जरूरत नहीं है। ‘न’ का मतलब ‘न’ ही होता है योरऑनर। ’
‘न मैं नाना पाटेकर हूं और न तनुश्री, तो मैं आपके सवाल का जवाब कैसे दे सकता हूं।’

ऊपर लिखी यह दोनों लाइनें फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन ने बोली हैं। पहली लाइन फिल्म ‘पिंक’ में एक बलात्कार की शिकार लड़की का केस लड़ते हुए और दूसरी लाइन अभिनेत्री तनुश्री और नाना पाटेकर विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कही। मामला एक ही तरह का है, पर रील और रियल लाइफ का अंतर है। वास्तव में रील और रियल लाइफ में यही फर्क होता है। अगर तनुश्री और नाना पाटेकर विवाद रियल लाइफ में न होकर सिनेमा के लिए फिल्माया गया एक दृश्य जैसा होता तो? तो सदी के महानायक पुरजोर वकालत करके यह केस जीत लेते और फिल्म ‘हिट’ हो जाती। चूंकि मामला फिल्म का नहीं है, इसलिए वे बड़े ही ‘बेशर्म’ तरीके से इस सवाल से बच निकलते हैं। खैर, सदी के महानायक की छोड़िए, दरियादिल सलमान खान की बात कर लें। जब एक प्रेस कांफ्रेंस में महिला पत्रकार ने इस विवाद पर सलमान की प्रतिक्रिया जाननी चाही, तब ‘आप किस इवेंट में आई …

#मीटू : आखिरकार गुबार फूट ही पड़ा

तनुश्री और नाना के विवाद ने बहुत सी महिलाओं को यह हिम्मत दी कि यही सबसे ठीक समय है, जब वे अपनी घुटन से छुटकारा पा सकती हैं। तनुश्री से हिम्मत लेकर लेखिका और निर्देशिका विंता नंदा ने जब अभिनेता और संस्कारी बाबूजी के नाम से लोकप्रिय आलोकनाथ के बारे में विस्तार से लिखा, तो लोगों का आश्चर्यचकित हो जाना लाजिमी था। बीस साल पहले हुए विंता के यौन उत्पीड़न के बाद जिस तरह से एक के बाद एक मामले सामने आए, उससे आलोक नाथ की एक दूसरी छवि ही लोगों ने देख ली। इसी तरह तनुश्री के माध्यम से समाजसेवी नाना पाटेकर एक दूसरा स्वरूप लोगों के सामने आया। तनुश्री के समर्थन में कंगना ने जब विकास बहल पर अपनी बात रखी, तब ‘क्वीन’ जैसी वुमेन ओरिएंटेड फिल्म बनाने वाले व्यक्ति का एक और ही चेहरा सामने आया। इसी क्रम में पत्रकारिता के क्षेत्र से एक प्रमुख नाम एम.जे. अकबर का आया है। अब तक उन पर 15 महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। टेलीग्राफ, एशियन ऐज और इंडिया टुडे के शीर्ष पदों पर रहने के बाद आज वे केंद्र सरकार में विदेश राजमंत्री भी हैं।

गौर करने वाली बात है कि जिन पर भी आरोप लग रहे हैं, वे सब अपने-अपने क्…

शादी की उम्र को लेकर अंतर क्यों?

यह कैसा विरोधाभास है कि 18 साल की उम्र में सरकार चुन सकते हैं पर जीवनसाथी नहीं। इस मामले में शायद महिलाएं भाग्यशाली हैं कि वे 18 साल होने के बाद अपने लिए जीवनसाथी चुन सकती हैं, पर पुरुष नहीं। उन्हें महिला की तुलना में तीन साल और इंतजार करना पड़ता है। यही हमारे देश का कानून है- विभिन्न कानूनों के तहत शादी की न्यूनतम आयु महिलाओं के लिए 18 साल और पुरुषों के लिए 21 साल। शादी के लिए पुरुष और महिला की आयु का अंतर क्यों रखा जाता है? इस अंतर का क्या वैज्ञानिक या सामाजिक आधार है? क्या यह इस विचार को पोषित करता है कि पत्नी पति से उम्र में छोटी होनी चाहिए? इन प्रश्नों का कोई माकूल और तर्कशील उत्तर हमारे पास नहीं है। शायद इसीलिए विधि आयोग ने सुझाव दे दिया कि क्यों न पुरुषों की शादी की न्यूनतम आयु महिला के सामान 18 कर दी जाए।

बलवीर सिंह चौहान की अध्यक्षता वाली विधि आयोग ने हाल ही में ‘परिवार कानून में सुधार’ पर अपने परामर्श पत्र में पुरुषों की शादी की न्यूनतम उम्र महिला के बराबर 18 वर्ष करने का सुझाव दिया है। वैसे विधि आयोग इस सुझाव को उलट ढंग से भी कह सकता था। यानी महिला की शादी की न्यूनतम आयु पुर…