सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ऑस्कर में बुलंद हुुई महिला आवाज

दिल्ली से मात्र साठ किलोमीटर की दूरी पर स्थित हापुड़ जिले के लोग एक दूसरे के साथ खुशियां बांट रहे हैं। कारण, हापुड़ के एक गांव में बनी 25 मिनट की डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘पीरियड, एंड ऑफ सेंटेंस’ को 91वें एकेडमी अवार्ड्स यानी ऑस्कर में बेस्ट डॉक्युमेंट्री शॉर्ट सब्जेक्ट कैटेगरी के लिए चुन लिया गया है। यह डॉक्युमेंट्री महिलाओं के पीरियड यानी महावारी को टैबू मानने को लेकर बनी है। इसलिए जब इस खुशी का इजहार डॉक्युमेंट्री की भारतीय सह-निर्माता गुनीता मोंगा ने यह लिखकर किया कि हम जीत गए, इस दुनिया की हर लड़की तुम सब देवी हो… अगर जन्नत सुन रही है तो। …यह दिखाता है कि पीरियड जैसा बालॉजिकल विषय हमेशा से कितनी भ्रांतियों की जकड़न में रहा है। जिस पर खुद महिलाएं तक बात नहीं कर पाती हैं, जैसा कि इस डॉक्युमेंट्री में दिखाया गया है।

‘पीरियड, एंड ऑफ सेंटेंस’ डॉक्युमेंट्री की शुरुआत ही कुछ किशोरियों से इसी सवाल के साथ होती है, जिस पर वे बिना झिझक के बोल तक नहीं पाती हैं। चाहे यह सवाल उनसे उनके ही घर पर किया गया हो, या फिर स्कूल में। जब लड़कियों का यह हाल है, तो पुरुषों का क्या हाल हो सकता है, यह भी इस डॉक्युमेंट्री में है। जहां महिलाएं इस बॉयोलाजिकल प्रक्रिया को छूत, बीमारी या गंदी बात मानती हैं, वहीं आदमी इसे महिलाओं की एक बीमारी बताते हैं। काठीखेड़ा (हापुड़ का एक गांव, जहां पर इस डॉक्युमेंट्री को बनाया गया है।) गांव में थोड़ा परिवर्तन तब आता है, जब यहां एक सेनेटरी पैड बनाने वाली मशीन लगाई जाती है। इस मशीन के माध्यम से महिलाओं को पीरियड के दौरान स्वच्छता जैसे मुद्दों के प्रति जागरुक किया जाता है। इस गांव की महिलाओं को इस मानसिक स्थिति तक पहुंचने और सेनेटरी पैड बनाने के कारखाने में काम करने के दौरान कितनी परेशानियों और समाज के विरोध को झेलना पड़ता है, यह सब इस डॉक्युमेंट्री का वृहद विषय है। इन सबको 25 मिनट की इस डॉक्युमेंट्री में समेट लिया गया है। यहां बनने वाले सेनेटरी पैड को फ्लाई नाम से बेचा जाता है। फ्लाई नाम से इस ब्रांड के साथ इस गांव की महिलाओं के सपनों को भी पंख लग जाते हैं।

बेस्ट डॉक्यूमेंट्री शॉर्ट कैटेगरी अवॉर्ड के लिए ‘पीरियड, एंड ऑफ सेंटेंस’ के मुकाबले 'ब्लैक शीप', 'एंड गेम', 'लाइफबोट' और 'अ नाइट ऐट दी गार्डन' फिल्में थीं। डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘पीरियड, एंड ऑफ सेंटेंस’ का निर्देशन रायका जेहताबची ने किया है। इसे भारतीय सह-निर्माता गुनीता मोंगा की सिखिया एंटरटेनमेंट ने इसे प्रोड्यूज किया है। गुनीत मोगा गैंग्स ऑफ बासेपुर, लंच बाक्स, जुबान, मसान और पेडलर्स जैसी फिल्में प्रोड्यूज कर चुकी हैं। यह डॉक्यूमेंट्री 'ऑकवुड स्कूल इन लॉस एंजिलिस' के छात्रों और उनकी शिक्षक मेलिसा बर्टन द्वारा शुरू किए गए 'द पैड प्रोजेक्ट' का हिस्सा है। भारतीय समय के अनुसार सुबह, 25 फरवरी को इन पुरस्कारों की घोषणा की गईं। देश में दस साल के बाद इस डॉक्यूमेंट्री के बहाने कोई ऑस्कर देश में आया है। इससे पहले 2009 में ए.आर. रहमान और साउंड इंजीनियर रसूल पोकुट्टी को 'स्लमडॉग मिलेनियर' के लिए ऑस्कर मिला था।


पिछले साल अभिनेता अक्षय कुमार अपनी फिल्म ‘पैडमैन’ के माध्यम से इस विषय को उठा चुके हैं। इस फिल्म को तमिलनाडु के अरुणाचलम मुरुगनांथम के कार्यों से प्रेरित बताया गया था। अरुणाचलम ने महिलाओं की इस समस्या के लिए एक सस्ती पैड मशीन का अविष्कार किया था। जिससे महिलाओं को अपने हाईजीन को बनाए रखने के लिए सस्ती दर में सेनेटरी पैड उपलब्ध हो सकें। और इस काम में वे न केवल सफल होते हैं, बल्कि महिलाओं से जुड़े इस विषय के प्रति वे लोगों का जागरुक करने में भी सफल होते हैं। माहवारी यानी पीरियड को लेकर अधिकतर समाजों में जकड़न इस हद तक है कि इन दिनों में महिलाओं और किशोरियों को घर से बाहर किसी झोपड़ी में रहने तक के लिए मजबूर कर दिया जाता है। इससे न केवल उनकी जान चली जाती है, बल्कि उन्हें अकेला पाकर बलात्कार तक किया जाता है। इसे पड़ोसी देश नेपाल और देश के कुछ इलाकों में चौपदी या छौपाड़ी प्रथा कहते हैं। पैडमैन फिल्म के साथ में इसी विषय को अभिषेक सक्सेना ने ‘फुल्लू’ नाम से फिल्म बनायी थी, बेहतरीन होने के बावजूद जिसकी चर्चा भी कम हुई।

महिलाओं के पीरियड्स संबंधी जकड़न तोड़ने के लिए इस तरह की डॉक्यूमेंट्री और फिल्म को माध्यम बनाने से लोगों का ध्यान आसानी से खींचा जा सकता है। इसलिए इस तरह के प्रयासों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। वैसे भी सदियों से चली आ रही यह जकड़न किसी एक फिल्म से टूटने वाली भी नहीं है। पर बार-बार चोट करने से टूटने की गुंजाइस बन ही जाती है।

टिप्पणियाँ

ब्लॉग बुलेटिन टीम की और रश्मि प्रभा जी की ओर से आप सब को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर बधाइयाँ और हार्दिक शुभकामनाएँ |


ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 08/03/2019 की बुलेटिन, " आरम्भ मुझसे,समापन मुझमें “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तनुश्री से सवाल पूछने से पहले

नो एक शब्द ही नहीं, अपने आप में पूरा वाक्य है योरऑनर। इसे किसी तर्क, स्पष्टीकरण या व्याख्या की जरूरत नहीं है। ‘न’ का मतलब ‘न’ ही होता है योरऑनर। ’
‘न मैं नाना पाटेकर हूं और न तनुश्री, तो मैं आपके सवाल का जवाब कैसे दे सकता हूं।’

ऊपर लिखी यह दोनों लाइनें फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन ने बोली हैं। पहली लाइन फिल्म ‘पिंक’ में एक बलात्कार की शिकार लड़की का केस लड़ते हुए और दूसरी लाइन अभिनेत्री तनुश्री और नाना पाटेकर विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कही। मामला एक ही तरह का है, पर रील और रियल लाइफ का अंतर है। वास्तव में रील और रियल लाइफ में यही फर्क होता है। अगर तनुश्री और नाना पाटेकर विवाद रियल लाइफ में न होकर सिनेमा के लिए फिल्माया गया एक दृश्य जैसा होता तो? तो सदी के महानायक पुरजोर वकालत करके यह केस जीत लेते और फिल्म ‘हिट’ हो जाती। चूंकि मामला फिल्म का नहीं है, इसलिए वे बड़े ही ‘बेशर्म’ तरीके से इस सवाल से बच निकलते हैं। खैर, सदी के महानायक की छोड़िए, दरियादिल सलमान खान की बात कर लें। जब एक प्रेस कांफ्रेंस में महिला पत्रकार ने इस विवाद पर सलमान की प्रतिक्रिया जाननी चाही, तब ‘आप किस इवेंट में आई …

#मीटू : आखिरकार गुबार फूट ही पड़ा

तनुश्री और नाना के विवाद ने बहुत सी महिलाओं को यह हिम्मत दी कि यही सबसे ठीक समय है, जब वे अपनी घुटन से छुटकारा पा सकती हैं। तनुश्री से हिम्मत लेकर लेखिका और निर्देशिका विंता नंदा ने जब अभिनेता और संस्कारी बाबूजी के नाम से लोकप्रिय आलोकनाथ के बारे में विस्तार से लिखा, तो लोगों का आश्चर्यचकित हो जाना लाजिमी था। बीस साल पहले हुए विंता के यौन उत्पीड़न के बाद जिस तरह से एक के बाद एक मामले सामने आए, उससे आलोक नाथ की एक दूसरी छवि ही लोगों ने देख ली। इसी तरह तनुश्री के माध्यम से समाजसेवी नाना पाटेकर एक दूसरा स्वरूप लोगों के सामने आया। तनुश्री के समर्थन में कंगना ने जब विकास बहल पर अपनी बात रखी, तब ‘क्वीन’ जैसी वुमेन ओरिएंटेड फिल्म बनाने वाले व्यक्ति का एक और ही चेहरा सामने आया। इसी क्रम में पत्रकारिता के क्षेत्र से एक प्रमुख नाम एम.जे. अकबर का आया है। अब तक उन पर 15 महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। टेलीग्राफ, एशियन ऐज और इंडिया टुडे के शीर्ष पदों पर रहने के बाद आज वे केंद्र सरकार में विदेश राजमंत्री भी हैं।

गौर करने वाली बात है कि जिन पर भी आरोप लग रहे हैं, वे सब अपने-अपने क्…

शादी की उम्र को लेकर अंतर क्यों?

यह कैसा विरोधाभास है कि 18 साल की उम्र में सरकार चुन सकते हैं पर जीवनसाथी नहीं। इस मामले में शायद महिलाएं भाग्यशाली हैं कि वे 18 साल होने के बाद अपने लिए जीवनसाथी चुन सकती हैं, पर पुरुष नहीं। उन्हें महिला की तुलना में तीन साल और इंतजार करना पड़ता है। यही हमारे देश का कानून है- विभिन्न कानूनों के तहत शादी की न्यूनतम आयु महिलाओं के लिए 18 साल और पुरुषों के लिए 21 साल। शादी के लिए पुरुष और महिला की आयु का अंतर क्यों रखा जाता है? इस अंतर का क्या वैज्ञानिक या सामाजिक आधार है? क्या यह इस विचार को पोषित करता है कि पत्नी पति से उम्र में छोटी होनी चाहिए? इन प्रश्नों का कोई माकूल और तर्कशील उत्तर हमारे पास नहीं है। शायद इसीलिए विधि आयोग ने सुझाव दे दिया कि क्यों न पुरुषों की शादी की न्यूनतम आयु महिला के सामान 18 कर दी जाए।

बलवीर सिंह चौहान की अध्यक्षता वाली विधि आयोग ने हाल ही में ‘परिवार कानून में सुधार’ पर अपने परामर्श पत्र में पुरुषों की शादी की न्यूनतम उम्र महिला के बराबर 18 वर्ष करने का सुझाव दिया है। वैसे विधि आयोग इस सुझाव को उलट ढंग से भी कह सकता था। यानी महिला की शादी की न्यूनतम आयु पुर…